प्रेगनेंसी में कौन से काम से बच कर रहे -Pregnancy Care Tips In Hindi

दोस्तों timesgloble.com  में आपका एक बार फिर से स्वागत है दोस्तों माँ बनना सबका सपना होता है लेकिन जब एक महिला प्रेगनेंट होती है तो वो हमेशा यही सोचती रहती है की ,क्या करू, क्या न करू ,जिससे  उसको और उसके बच्चे को कोई भी परेशानी न हो और वो एक हेअल्थी बच्चे को डेलिवर करे , तो आज के इस आर्टिकल में हम हर वो काम बताने वाले है जिससे आपको बचना है और इससे आप अपनी  केयर खुद कर सकते है।

पहले ट्रिमस्टर

बात करे पहला ट्रिमस्टर की तो पहले ट्रिमस्टर में ऐसा होता है की उस टाइम सुरुवात होती है, आपको ज्यादा कुछ फीलिंग्स नहीं होती है और कई लोगो को बहुत सारे  symptoms होते है ऐसे टाइम में क्या करना है ?कैसे बचाव करना है खुद का की प्रेगनेंसी सुरक्षित रहे

  • सबसे पहले आपको लम्बे टाइम तक खाली पेट न रहना , इससे पेट में गर्मी एसिडिटी पड़ने से आपको बहुत ज्यादा प्रॉब्लम होगी हर डेढ़ से दो घंटे में आपको कुछ खाना है ors पीना है glucondy का सेवन न करे।
  • पालतू जानवर से दूर रहना है , अगर आपके घर में जानवर है तो उनका लेट्रिन आपको क्लीन नहीं करना है क्युकी उस से बहुत सीरियस इन्फेक्शन्स होता है और जो बच्चे में विकीर्ति पैदा कर सकता है तो पालतू जानवर से और उसके लेट्रिन से दूर रहे
  • early  प्रेगनेंसी में pollution ,या फिर आप बहुत ही pollution एरिया में रहते है तो ये भी आपके लिए खतरनाक हो सकता है क्युकी कई सारे टॉक्सिन्स आप इन्हेल करते है ये भी आपके miscarriage के चान्सेस होते है अगर ऐसे एरिया पे आपको जाना है तो आप मास्क का प्रयोग जरूर करे
  • हार्डवर्क से बचना है फर्स्ट ट्रिमस्टर में बॉडी वैसे ही बहुत overactivity कर रही होती है उसको वैसे ही जल्दी से जल्दी बच्चे की संरचना विकशित  करनी होती है uterus में बहुत ज्यादा changes  हो रहे होते है, सर्कुलेशन फ़ास्ट हो रहा होता है  और बॉडी में कई नए changes हो रहे होते है और बॉडी में उसको और नए changes करने है और ऐसे में अगर आप जॉब भी कर रही है, घर का काम भी कर रहे या फिर कुछ ऐसे हार्डवर्क वाले काम कर रहे है तो प्लीज उससे बचे  इससे आपको प्रेगनेंसी loos का और एक्सट्रीम वीकनेस का शिकार करना पड़ सकता  है

सेकंड ट्रिमस्टर 

  • 4 मंथ से 6 मंथ तक बहुत सारे changes हो गए होते है ये गोल्डन पीरियड माना  जाता है शरीर में काफी शथिरता रहती  है और बेबी बम्प बढ़ता है ऐसे में झुकना बिलकुल नहीं है अगर कोई काम आपको झुक के करना है तो सबसे पहले आप बैठे जाये और  बैठने के बाद उसको करे ,डिरेक्टली  मुड़ जाना सरीर को मोड़ देना ऐसा बिलकुल  नहीं करना है इससे आपको काफी प्रोब्लेम्स हो सकती है तो झुकने  में काफी सावधानी रखे अगर  मल्टीप्ल है जुड़वाँ प्रेगनेंसी है तो प्रेगनेंसी बेल्ट का इस्तेमाल करना शुरू कर दे जिससे की आपको कमर दर्द  जैसे शिकायत नहीं हो कोई भी भारी  चीज को उठाना नहीं  है कई लोग सोचते है की उठाएंगे नहीं बस खिचका देंगे न तो उठाना है और न ही खिसकना  है अगर आप ऐसा करेंगे तो इससे  आपके abdomal पे खिचाव या  संकुचन होगा जो प्रेगनेंसी के लिए बिलकुल सेफ नहीं है और ये utrus पर दबाब डालता है
  • झटके से बचना है कई बार आप एकदम से आते है बैठ जाते है और एकदम से उठ जाते है ऐसे में  झटके वाली एक्टिविटी है इससे बचना है झटके वाली चीजों से आपको बहुत ज्यादा प्रॉब्लम हो सकती है
  • सेकंड ट्रिमस्टर पे आपको स्ट्रेस से बचना है आयरन वाली चीजे लेनी है ,प्रोटीन की मात्रा को बढ़ाना है स्ट्रेस पे रहेंगे तो digestion खराब हो सकता है , मूड खराब और बच्चे का डेवलोपमेन्ट बहुत ज्यादा खराब हो जायेगा तो स्ट्रेस से पूरी तरीके से बचके रहना है

अब बात करते है थर्ड ट्रिमस्टर की इस समय आपको किन बातों का ख्याल रखना है

  • तीसरे ट्रिमस्टर के ७ वे महीने के बाद से आपको सीढी चढ़ना कम कर देना चाहिए दिन में एक बार सीढ़ी  चढ़ना वजीभ है ,अगर आपका घर ऊपर है और आपकी  बॉडी भी habbitual है ऐसा में ज्यादा सीढ़ी चढ़ना और उतरना आपको परेशानी में डाल  सकता है
  • physcial एक्टिविटी करे अगर आप सोचे की आपको तीसरे तिमाही में रेस्ट करना है तो आप दिक्कत में पड़ जायेंगे, बॉडी में फ्लेक्सिबिलिटी होनी चाहिए जिससे constiption अच्छा हो पुरे समय आपको बैठे रहने से बचना है थोड़ी फिजिकल  एक्टिविटी भी करनी है
  •  बासी खाने से बचना है फ्रिज में अगर बासी  खाना रखा है कोई भी चींज आपकी पसंदीदा  अगर 24 से 48 घंटे रखी है वो भी सर्दियों में और 16 से 24 घंटे गर्मियों में तो नहीं खाना है उसको, क्युकी जब भी फ़ूड को हम हीट करते है तो उसका nutrition लेवल गिर जाता है फ्रेश फ़ूड खाये और फलो को फ़्रीज में स्टोर न करे
  • रोना कई महिलाओ को रोना होता है ,पीठ में दर्द होता है ,कई बार चलने में दिक्कत होती है और कई परेशानी होती है तो वो बात 2 पे रोने लग जाती है रोने से बचना है पॉजिटिव एनर्जी  रखनी है अपने बच्चे पे ज्यादा फोकस करना है अपने बच्चे से बात करनी है संगीत सुनना है रिलैक्सेशन करना है लेकिन रोना नहीं है इससे बच्चे के अंदर भी ये ही स्वाभाव विकसित हो जायेगा

तीसरे तिमाही पे ये एक सावधानी पे आपको ज्यादा ध्यान रखना है अगर आप एक ही तरीके से बहुत देर तक बैठे है तो तुरंत अपने आपको बदलिए ,एक ही पोजीशन पे काफी देर तक न आपको बैठना है और न ही आपको खड़े रहना है इस चीज का आपको बेहद ख्याल रखना है

ऊपर दिए गए टिप्स अगर आप फॉलो करते है तो आपको काफी लाभ मिलेगा और आपकी प्रेगनेंसी काफी सही रहेगी ,आशा करते है आपको ऊपर दिए गए टिप्स अच्छे लगे होंगे और आपको एक अच्छी जानकारी मिली होगी

Leave a Comment