किन्नेरो के बारे में 5 अनसुनी बातें जिसे 99 %लोग नहीं जानते ?

किनेर के बारे में 5 चौका देने वाले बातें

दोस्तों प्रकति में नर और नारी के अलावा एक और वर्ग है जो न तो पूरी तरीके से नर है न ही नारी ऐसे लोग में गुप्तांगो का विकास नहीं होता है पुराणों में इनको किन्नर कहा गया है पौराणिक कथाओ में कई किन्नेरो का जिक्र भी किया गया है किन्नेर एक ऐसा नाम है जिसे सुनते ही हर किसी के मन में कोई न कोई प्रश्न जरूर आ जाता है लेकिन आज तक इनके बारे में कोई बहुत कुछ जान नहीं पाया है दुनिया के हर समाज में लोगो के मन में किन्नर के प्रति नजरिया बहुत अलग है जबकि भारतीय पुराणों और उनको ग्रंथो में अलग से जगह दी गयी है अक्सर ऐसा देखा गया है की लोगो के अंदर किन्नरों के वर्ग को जानने की उत्सुकता बहुत होती है

आइये जानते है किंनर की 5 चौका देने वाली बातें

किन्नेरो के बारे में 5 अनसुनी बातें जिसे 99 %लोग नहीं जानते ?

1 अक्सर लोग किन्नर के जनम के बारे में जानने के लिए बहुत ही उत्साहक रहते है मेडिकल साइंस के अनुसार जब कोई महिला गर्भवती हो जाती है तो उसके 3 महीने के बाद शिशु का विकास शुरू हो जाता है इस बीच अगर माँ को कोई बीमारी या समस्या हो तो गर्भ में हार्मोन की समस्या के कारन महिला और पुरुष दोनों के अंग उस महिला के अंदर आ जाते है और वह किन्नर बन जाता है

2 -अगर गर्भावस्था के दौरान माँ कोई दवा लेती है तो उससे उसे नुकसान होता है और उससे पैदा होने वाला बच्चा भी किन्नर हो सकता है

3-गर्भावस्था के दौरान अगर माँ को बहुत तेज बुखार हो या वो अस्वस्थ हो जाये तो इसका असर बच्चे के लिंग पर भी पड़ सकता है

4 -अगर गर्भावस्था के दौरान माँ किसी दुर्घटना का शिकार हो जाये तो बच्चे के किन्नर होने की सम्भावना भी बढ़ जाती है

5 -यदि कोई महिला गर्भ पात के लिए डॉक्टर की सलाह पर किसी भारी दवाई का सेवन करती है तो भविष्य में उसका होने वाला बच्चा किन्नर पैदा हो सकता है

6 -प्रेगनेंसी के दौरान खराब भोजन करने या खास तरह के केमिकल से तैयार फ्रूट्स या vegitables का सेवन करने से भी इस तरह की सम्भावनाये बढ़ जाती है इसलिए आप के घर में कोई महिला किसी बच्चे को जनम देने वाली है तो उसका खास ख्याल जरूर रखें

7 – दोस्तों आपको बता दे की किन्नर समुदाय के लोग शादी भी करते है लेकिन आम तौर पे हम ये ही मानते है की किन्नर शादी नहीं करते है लेकिन ये सत्य नहीं है किन्नर भी शादी करते है उनकी शादी आम लोगो से बहुत अलग होती है इनकी शादी जिंदगी भर लिए नहीं बल्कि एक रात के लिए ही होती है और ये शादी ये अपने आराध्य देव से करते है एक ही रात में ये किन्नर शादी सुदा से विधवा बन जाती है

8-अर्जुन और नाग कन्या उलूपी के पुत्र एरावन से जिन्हें अरावन भी कहा जाता है जो नागो के देवता है मंदिर के पुजारी उन्हें मगल सूत्र पहनाते है किन्नर की शादी देखने के लिए आपको तमिलनाडु जाना होगा तमिलनाडु के विल्लुपुरम जिले के कुनागम गांव में भगवानो का सबसे प्राचीन और मुख्या ,मंदिर हैजो की कुन्था द्वार मंदिर के नाम से जाना जाता है इस मंदिर में भगवन अरावन के केवल शीश की पूजा में की जाती है ठीक वैसे ही जैसे की राजस्थान के खाटू श्याम मंदिर में बर्बरीक की शीश की पूजा की जाती है यह पर किन्नर विवाह उत्सव तमिल नापासर की पहली पूर्णिमा से शुरू हो जाता है और 18 दिन तक चलता है 17 दिन उनके अपने देवता इरावन से शादी होती है और अगले दिन सारा श्रृंगार उतार कर विधवा की तरह विलाप करते है मित्रो किन्नर की शादी के बाद जश्न मनाया जाता है और उसके बाद उनके देवता एरावन को पुरे शहर में घुमाये भी जाता है फिर भगवान की मूर्ति तोड़ दी जाती है और इसी के बाद किन्नेर अपना श्रृंगार उतार कर सफ़ेद साड़ी पहन कर विधवा की तरह विलाप करने लगते है

9 -अगर बात मृत्यु की करे तो किन्नरों को अपनी मौत का आभाष पहले ही हो जाता है जिसके बाद वो खाना पीना बंद कर देते है इसके दौरान वो भगवान् में विलीन हो जाते है और भगवान से प्रार्थना करते है हे प्रभु इस जनम में किन्नर बने है लेकिन कृपया करके अगले जनम में हमें किन्नर न बनाये। किन्नर समाज में जब किसी की मृत्यु हो जाती है तो अंतिम संस्कार के तौर पर सबसे पहले उसकी आत्मा को मुक्ति दिलाने की प्रक्रिय की जाती है जिसमें शव को एक सफ़ेद कपडे में लपेटा जाता है और इस बात का भी ख्याल रखा जाता है की शव पर कुछ भी न बंधा हो ताकि उनकी आत्मा को मुक्ति मिल सके उसके बाद शव को दफना देते है हलाकि ये लोग सनातन धर्म को मानते है मृत्यु के बाद शोक नहीं मनाया जाता है बल्कि जश्न मानाने का रिवाज है क्युकी उनका मानना है की ,मृतक को इस जनम से मुक्ति मिल गयी है सभी किन्नर शव के पास खड़े होके अपने देवता अरावन को मुक्ति के लिए धन्यवाद देते है साथ ही ये भी प्रार्थना करते है की वो किन्नेर के रूप पे जनम न ले।

10 -जानकारी के मुताबिक किन्नर समुदाय शव यात्रा निकालने से पहले शव को जूते चप्पल से पिटते है इसके अलावा किन्नर का अंतिम संस्कार हमेशा रात में बहुत ही गुप्त तरीके से किया जाता है इसके पीछे किन्नर समाज का मानना है की रात में हम इसलिए अंतिम संस्कार करते है ताकि कोई आम इंसान इसको देख न सके क्युकी उंनका मानना है की कोई व्यक्ति किंनर का शव देख लेगा तो वो अगले जनम में फिर किन्नर ही बनेगा।

11 -दोस्तों किन्नर के आशीवार्द को देवताओ के आशीर्वाद के सामान माना जाता है इस कलयुग में केवल किन्नर का आशीर्वाद और श्राप लगता है पुराणिक मानयताओं के साथ माना जाता है कि जब भगवन श्री राम जब १४ वर्ष का वनवास काटने जा रहे थे तब समस्त प्रजा के साथ साथ किन्नर समाज भी उनके साथ चले जा रहे थे तब श्री राम ने सभी को वपिस लौटने का आदेश दिया और स्वयं वनवास के लिए चले गए लेकिन वे जब वनवास से लौटे तो उन्होंने देखा की सभी किन्नर उनका वही पर इंतज़ार कर रहे थे वास्तव में किन्नर वापस गए ही नहीं थे बल्कि वो 14 वर्ष तक प्रभु की लौटने की पूजा करते रहे तब खुश होके श्री राम ने उनको वरदान दिया था उनका आशीर्वाद कभी खाली नहीं जायेगा

12 -वही हिन्दू धार्मिक शास्त्रों में बताया गया है की किन्नर का दिल कभी दुखाना नहीं चाहिए क्युकी उनके द्वारा दिया गया श्राप लग सकता है ऐसा बताया जाता है की किन्नर के श्राप से व्यक्ति की कुंडली में बुध ग्रह कमजोर हो जाता है जिसके कारन उनके विवाह में बाधा आ जाती है और उनके व्यापर में रूकावट आती है और उनको आर्थिक तंगी का सामना भी करना पड़ता है किन्नर और बुध ग्रह के बिच सीधा सम्बन्ध है दरअसल किन्नर भी नपुंसक होते है और कुंडली का बुध ग्रह भी नपुंसक होता है शास्त्र के अनुसार अगर आप किसी किन्नर को दुखी करते है तो इसका सीधा असर आपके बुध गृह पर पड़ता है और बुध ग्रह का सम्बन्ध धन से ही है और इसके साथ ही किन्नर की बद्दुवा इसलिए नहीं लेनी चाहिए क्युकी ये बचपन से लेकर बड़े होने तक दुखी ही रहते है ऐसे में दुखी दिल की बद्दुआ लगना स्वाभाविक है किन्नर

13 -किन्नर को हमेशा ऐसे युवा की तलाश रहती है जिनका चाल ढाल लड़की की तरह हो ये समझ ऐसे लड़को की तलाश में रहता है जो खूबसूरत हो जिसकी चाल ढाल थोड़ी कोमल हो जो ऊंचा उठने के ख्बाब देखता हो ,ये समुदाय उससे नजदीकी बढ़ाता है और फिर समय आते ही उसको बंधिया कर दिया जाता है बंधियाकरण यानि उसके सरीर के उस हिस्से को काट देना जिसके बाद वो कभी लड़का नहीं रह पाता

Leave a Comment